Draft:डॉ . जे. एस. पी. जादौन

From Wikipedia, the free encyclopedia
Jump to navigation Jump to search

पद्म श्री अवार्ड विजेता

डॉ जयसिंह पाल सिंह जादौन   ( डॉ जे.एस.पी. सिंह )

"ग्राम - अखईपुर जादौन जिला हाथरस

प्रख्यात कृषि वैज्ञानिक

पूर्व वाइस चांसलर हरियाणा एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी हिसार

पूर्व चेयरमैन ASRB (एग्रीकल्चर साइंटिस्ट रिक्रूटमेंट बोर्ड)

पूर्व अध्यक्ष ISCAR ( Indian Society For Costal Agriculture Research )

पूर्व डायरेक्टर CSSRI ( केंद्रीय मृदा लवणता अनुसंधान संस्थान)

इनका जन्म अलीगढ़ जिले के गांव अखईपुर में ठाकुर टीकाराम सिंह जी के यहां हुआ था शुरू से ही ये असाधारण प्रतिभा के धनी थे ।

12 वीं तक की इनकी शिक्षा हाथरस के बांग्ला इंटर कॉलेज से हुई

पारिवारिक पृष्ठभूमि कृषि प्रधान होने के कारण कृषि के क्षेत्र में शुरू से ही इनकी रूचि थी ।

रुचि अनुसार इन्होंने स्नातक बीएससी (कृषि) बलवंत राजपूत कॉलेज आगरा से की,

परास्नातक एमएससी(कृषि) अथवा पीएचडी गवर्नमेंट एग्रीकल्चर कॉलेज कानपुर से की


पीएचडी के पश्चात इन्होंने फॉरेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट देहरादून को बतौर मृदा वैज्ञानिक ज्वाइन किया ।

मृदा एवं कृषि अनुसंधान के क्षेत्र में इनका अविस्मरणीय योगदान रहा जिसके लिए भारत सरकार द्वारा इन्हें पद्म श्री अवॉर्ड से सम्मानित किया गया ।।

3 अप्रैल सन् 2010 को इनका देहांत हो गया ।

इन्होंने अपने जीवन काल में 100 से ज्यादा शोध पत्र लिखे

साथ ही मृदा अनुसंधान के क्षेत्र में कई पुस्तकें भी लिखीं ।

आज भी मृदा अनुसंधान के लिए इन्हीं के द्वारा विकसित कई प्रकार की तकनीकों का प्रयोग होता है ।

कृषि के क्षेत्र  में  हरित क्रांति के इतने प्रभावशाली परिणाम लाने में अविस्मरणीय योगदान  के लिए भारत सरकार द्वारा सन 1984 में इन्हें  पद्म श्री अवॉर्ड से नवाजा गया ,

सन 1959 में इन्हें केमिकल सोसायटी लंदन से fellow award से नवाजा गया ।

सन 1967 में एक रिसर्च के लिए इन्हें  नेशनल एकेडमी ऑफ साइंस इलाहाबाद अवॉर्ड दिया गया।

सन 1974 में ऑस्ट्रेलिया सरकार ने इन्हें ऑस्ट्रेलियन कल्चर अवॉर्ड से सम्मानित किया ।

सन 1977 में  कॉमन वैल्थ साइंटिफिक एसोसिएशन से गिनीज़ अवॉर्ड ।

सन 1982 में soil salinity research के लिए हरिओम आश्रम ट्रस्ट अवॉर्ड ।

सन 1984 में  कृषि एवं मृदा अनुसंधान के क्षेत्र में अविस्मरणीय योगदान के लिए भारत सरकार ने इन्हें

पद्म श्री अवॉर्ड

डॉ राजेंद्र प्रसाद अवॉर्ड

गोल्डन जुबली अवॉर्ड से सम्मानित किया ।

इनके बेटे प्रोफेसर अनिल कुमार  सिंह पुसा इंस्टीट्यूट तथा ICAR नई दिल्ली के deputy DG रहे हैं अथवा राजमाता विजयाराजे सिंधिया एग्रीकल्चर विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर रहे हैं ।

डॉ जेएसपी सिंह की स्मृति में  ISSS तथा ISCAR द्वारा नए मृदा एवम् कृषि वैज्ञानिकों को अवॉर्ड दिए जाते हैं

1. Dr. JSP SINGH MEMORIAL AWARD FOR EXCELLENCE IN SOIL SCIENCE

2. Dr. JSP SINGH BEST PAPER AWARD